एजेंसी,शिमला : हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश होने से शनिवार को अधिकांश सड़कों पर यातायात अवरुद्ध है, जिसके चलते पर्यटक और यात्री फंसे हुए हैं। सबसे ज्यादा सिरमौर और कुल्लू प्रभावित हुए हैं। अधिकारियों ने कहा कि मंडी-पठानकोट राष्ट्रीय राजमार्ग 20, जो कि यहां से 220 किलोमीटर दूर जोगिन्दरनगर तहसील के कोट्रोपी गांव के पास है, वहां वाहनों की आवाजाही बंद रखी गई। हालांकि, आंशिक रूप से फिर से खोल दिया गया था, लेकिन किन्नौर जिले में यातायात अभी भी बंद है।

मौसम अलर्ट: उत्तर भारत में परवान पर मानसून, दिल्ली समेत 12 राज्यों में बारिश के आसार

एक सरकारी अधिकारी ने एजेंसी को बताया, “बारिश से आए भूस्खलन के चलते सिरमौर जिले के अधिकांश अंदरूनी सड़कों से संपर्क टूट गया है। सिरमौर के ऊपरी इलाकों के शहरों के लिए सड़क लिंक एक या दो दिनों के भीतर बहाल होने की संभावना है।” अधिकारियों ने कहा कि किन्नौर, शिमला, चंबा, मंडी और कुल्लू जिलों के ऊपरी इलाकों में सड़क नेटवर्क सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं और उन्हें फिर से खोलने के प्रयास किए जा रहे हैं।

1968 एयर क्रैश में लापता हुए शदीह सैनिक का शव सलामत मिला

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने एजेंसी को बताया, “पिछले 24 घंटों के दौरान राज्यभर में जोरदार मानसून देखने को मिला। मंडी और सिरमौर जिलों में भारी बारिश के साथ ज्यादातर जगहों पर बारिश हुई।” उन्होंने कहा कि रविवार तक राज्य में कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की आशंका है। राज्य में सिरमौर जिले के नाहन में सबसे ज्यादा 110 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। कांगड़ा में 98 मिलीमीटर बारिश हुई, जबकि सोलन में 76.4 मिलीमीटर, धर्मशाला में 55.4 मिलीमीटर और मनाली में 12.6 मिलीमीटर हुई। राज्य की राजधानी शिमला में 40.2 मिलीमीटर बारिश हुई। एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि सतलुज, ब्यास और यमुना नदियों और किन्नौर, शिमला, कुल्लू, मंडी, बिलासपुर और सिरमौर जिलों में उनकी सहायक नदियों में बाढ़ की स्थिति है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here