पंजाब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब एवं और धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी के मामले में जस्टिस रणजीत सिंह कमीशन की रिपोर्ट से हलचल मची हुई है। इस मामले के संबंध में रिपोर्ट के आधिकारिक रूप से जारी होने से पहले ही इसको लेकर हो रही चर्चाओं से पंजाब का माहौल गरमाया हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार मुख्य गवाह हिंमत सिंह के पलटने के बाद अब कमीशन की रिपोर्ट फ़िल्म अदाकार अक्षय कुमार के कारण चर्चाओं में आ गई है। बताया जाता है कि रिपोर्ट में कहा गया है कि गुरमीत राम रहीम के साथ सुखबीर बादल की मुलाकात अक्षय कुमार के घर में ही हुई थी। जिसके बाद अक्षय कुमार ने इस बात को खारिज किया है। अक्षय ने कहा है कि वह गुरमीत राम रहीम को ना तो कभी मिले हैं और ना ही वो उनको जानते हैं।

जानकारी के अनुसार, एक न्यूज सायट पर फ़िल्म ‘गोल्ड ’ की सफलता के बाद दिए इंटरव्यू में अक्षय कुमार ने कहा कि वह ना तो कभी डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को मिले हैं और ना ही उनको जानते हैं। उन्होंने इस बात को भी झूठा बताते हुए कहाकि उन्होंने कभी शिरोमणी अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल की डेरा प्रमुख के साथ मुलाकात करवाई थी। अक्षय कुमार ने इतना ज़रूर कहाकि सुखबीर बादल के साथ वह समारोहों में बतौर कलाकार एक या दो बार मिले हैं। अक्षय ने कहाकि जिस बेअदबी अध्याय में जस्टिस रणजीत सिंह कमीशन उनका नाम जोड़ रहे है, उसकी उनको जानकारी तक नहीं है। उन्होंने कहा कि कभी सुखबीर बादल के साथ या अकेले गुरमीत राम रहीम को वह नहीं मिले।

ज़िक्रयोग्य है कि कमीशन की रिपोर्ट पर विधानसभा में बहस होनी है। उसको लेकर कांग्रेस और विरोधी पक्ष ने एक दूसरे पर हमला बोलने की तैयारियाँ कर ली हैं। ऐसे में अक्षय का ब्यान सुखबीर बादल के लिए मददगार साबित हो सकता है। बताया जाता है कि जस्टिस रणजीत सिंह कमीशन ने जांच रिपोर्ट में लिखा है कि सुखबीर बादल और गुरमीत राम रहीम की बैठक बालीवुड अदाकार अक्षय कुमार ने मुंबई में करवाई थी। यह भी कहा जा रहा है कि रिपोर्ट के अनुसार बैठक बरगाड़ी और बहबल कलाँ अध्याय के बाद फैली धार्मिक ग्रंथों की बेअदबी से ख़राब हुए माहौल के साथ सबंधित था।

बता दें कि पंजाब में शिअद भाजपा सरकार के दौरान राज्य में श्री गुरु ग्रंथ साहिब एवं और धार्मिक ग्रंथों की बेदअदबी हुई थी। इससे माहौल ख़राब हो गया था और लोगों के विरोध के दौरान पुलिस फायरिंग में कई लोगों की मौत भी हो गई थी। कैप्टन अमरिन्दर सिंह की सरकार ने बेअदबी की घटनाएँ और फायरिंग मामलों की जांच के लिए जस्टिस रणजीत सिंह कमीशन का गठन किया था। यह कमीशन अपनी रिपोर्ट मुख्य-मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को सौंप चुके हैं। इस रिपोर्ट को पंजाब विधानसभा के चल रहे मानसून स्तर में पेश किये जाने की पूरी संभावना है।

1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here