बीमा, कागजी शुल्क और कार्ड को लेकर वसूल रहा हजारों रुपए 

10 हजार रुपए मूल्य से अधिक की इलेक्ट्रॉनिक वस्तुएं, मोबाईल, फर्नीचर आदि जीरो “0” परसेंट ब्याज दर पर किश्तों पर खरीदने का लालच देकर बजाज फाइनेंस कम्पन्नी द्वारा भोली-भाली जनता से धोखाधड़ी की जा रही है। किश्तों के चककर में आकर जनता से इलेक्ट्रॉनिक दुकानदारों से मिलकर कुछ ही देर में जीरो “0” परसेंट लोन होने के लालच में लोगों से 2500 से 4000 रुपए अतिरिक्त वसूले जा रहे है, जो परोक्ष रूप से ब्याज ही है।

ब्यूरों रिपोर्ट | एक्शन पंजाब : दिन-प्रतिदिन अलग अलग कंपनियों के नए नए मोबाइलों की लांचिंग हो रही है। तरह तरह के इलेक्ट्रॉनिक आइटम बिकवाने के लिए दुकानदार अब फर्जी फाइनांस कंपनियों का सहारा लेने लगे है। इन दिनों शहर में बजाज फाइनांस या बजाज फिनसर्व के नाम से “0” प्रतिशत ब्याज दर पर आसान किश्तों में विभिन्न प्रकार की वस्तुएं बेचीं जा रही है।

प्रति फाइनांस 4 हजार रुपए तक की अवैध वसूली

वास्तविकता तो यह है कि “0” परसेंट ब्याज का झांसा देकर एक वस्तु पर 4 हजार रुपए तक की वसूली बीमा, कागजी खर्च और आगे के लोन के लिए कार्ड बनवाने के नाम पर वसूले जा रहे है। लोगों द्वारा इसका विरोध करने पर बजाज फाइनांस के कार्यालयों में ग्राहकों के साथ अभद्रतापूर्ण व्यवहार भी किया जाता है। बजाज फाइनांस के वसूली एजेंट गुंडों की तरह लोगों के घरों पर जाकर अवैध रूप से वसूली कर रहे है एवं घरों पर जाकर धमकाने के मामले भी सामने आ रहे है। 

इलेक्ट्रॉनिक दुकानों को बनाया जाता है माध्यम 

मिली जानकारी के अनुसार बजाज कम्पन्नी के माध्यम से ग्राहकों को आसान किश्तों में सामान खरीदने की सलाह स्थानीय दुकानदार देते है। उदाहरणस्वरूप 12 हजार रुपए का मोबाईल 10x 3 की किश्तों में बेचा जाता है। जिसमें 1200 रुपए की 3 किश्तें यानि 3600 रुपए पहले जमा किये जाते है। इसके साथ संबंधित मोबाईल का बीमा लगभग 2500 रुपए, कागजी खर्च लगभग 700 रुपए एवं कार्ड बनाने का खर्च 300 रुपए। इस तरह 3500 रुपए अतिरिक्त भी इन्हीं किश्तों में जोड़ दिए जाते है और बाकी की 7 किश्तों में प्रति किश्त 1200 रुपए के साथ 500 रुपए प्रतिमाह अतिरिक्त भी किश्त में जोड़ दिए जाते है। इस तरह ग्राहक को 12 हजार रुपए का मोबाईल 15,500 रुपए का दिया जा रहा है।

दूसरे फाइनेंस पर पुनः वसूली जाती है अतिरिक्त राशि

अगली बार यदि उसी कार्ड से फाइनेंस कराया जाता है तो बीमा और फ़ाइल चार्ज पुनः वसूला जाता है। इस तरह बजाज फाइनेंस कम्पन्नी द्वारा ग्राहकों को बेवकूफ बनाकर “420” की जा रही है। सोशल मिडिया पर बजाज फाइनेंस की धोखाधड़ी की जानकारी मिलते ही दर्जनों लोग अब सामने आने लगे है।

किश्तें बाउंस करवाकर 400 रुपए की पैनाल्टी भी वसूलते है

इतना ही नहीं बजाज फाइनेंस के कुछ लोग मिलकर लोगों की किश्तें भी बाउंस करवाते है और बाद में प्रति किश्त 400 रुपए पैनाल्टी के रूप में वसूलते है। इस तरह आर्थिक घोटाला एवं आर्थिक अपराध बजाज कम्पन्नी द्वारा किये जा रहे है, जिसकी शिकायतें एकत्रित की जा रही है। इस संदर्भ में बजाज फाइनेंस से धोखाधड़ी के शिकार लोग शीघ्र ही प्रशासन को ज्ञापन देने का मन बना रहे है।  

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

सौजन्य: राज एक्सप्रैस

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here