चंडीगढ़ : मी-टू को लेकर पंजाब सरकार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पूरा विपक्ष मामले में लामबंद हो गया है। रविवार को आम आदमी पार्टी की महिला विंग ने रोष प्रदर्शन कर मामले में आरोपी शिक्षा मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी को बर्खास्त कर कानूनी कार्रवाई की मांग की। इससे पहले स्त्री अकाली दल भी प्रदर्शन कर चुका है। आप की महिला कार्यकर्ताओं ने प्रदेश प्रधान राज लाली गिल की अगुवाई में सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के सरकारी आवास की तरफ मार्च किया। लेकिन पुलिस ने चंडीगढ़ क्लब चौक के पास ही बैरिकेड्स लगा कर उन्हें रोक लिया। प्रदर्शनकारियों ने वहीं धरना दिया और कैप्टन अमरिंदर सिंह, मंत्री चरनजीत चन्नी और राहुल गांधी के खिलाफ नारेबाजी की।

गिल ने कहा कि जो मंत्री एक महिला आईएएस को आधी रात को आपत्तिजनक मैसेज भेज सकता है, उससे महिलाओं की सुरक्षा की क्या उम्मीद की जा सकती है।

उन्होंने आरोप लगाया कि सीएम ने महिला अधिकारी पर दबाव डालकर समझौता कराया, मंत्री चन्नी को बचाने की कोशिश की, जो कानूनी और नैतिक तौर पर ठीक नहीं है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आशा कुमारी की ओर से मंत्री को क्लीन चिट दिए जाने पर अफसोस जताया। महिला विंग ने राहुल गांधी पर दोहरे मापदंड का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि एक तरफ राहुल मी-टू में फंसने पर केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर का इस्तीफा मांगते हैं। दूसरी तरफ उसी आरोपों से घिरे अपने मंत्री को बचा रहे हैं। गिल ने चेतावनी दी कि अगर विदेश दौरे से लौटने पर सीएम ने आरोपी मंत्री को बर्खास्त नहीं किया तो पार्टी राज्यव्यापी आंदोलन शुरू करेगी। सीएम के ओएसडी अंकित बंसल द्वारा मांगपत्र लिए जाने के बाद धरना खत्म हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here