फरीदाबाद। एजेंसी : कर्मचारियों के प्रति हरियाणा सरकार की वादाखिलाफी के विरोध में कर्मचारी 21 अगस्त को एक बार फिर हड़ताल पर जाएंगे। हरियाणा कर्मचारी महासंघ इस हड़ताल का एलान किया है।

महासंघ की फरीदाबाद की जिला कार्यकारिणी कमेटी की बैठक के बाद शुक्रवार को जारी बयान के अनुसार, प्रदेश के लाखों कर्मचारियों की मांगों को प्रदेश सरकार सिर्फ टरकाने का काम करती आई है और गोलमोल बातें कर कर्मचारियों से बरगलाने के लिए झूठे आश्वासन ही देती आई है। इसलिए समस्त कर्मचारी वर्ग रोष में है और सरकार के विरुद्ध एक निणार्यक आंदोलन करने के लिए मजबूर है।

महासंघ के जिला प्रेस प्रवक्ता लेखराज चौधरी ने कहा कि सरकार की इसी वादाखिलाफी के खिलाफ 21 अगस्त से आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस बार सरकार से किसी प्रकार का झूठा आश्वासन नहीं चाहिए बल्कि प्रदेश के कर्मचारियों को उनका हक चाहिए। उन्होंने कहा कि मांगें पूरी न होने पर यह हड़ताल एक दिन की न रहकर अनिश्चितकालीन में भी तब्दील हो सकती है, क्योंकि कर्मचारी सरकार के झूठे वादों से त्रस्त हैं और पीछे हटने को तैयार नहीं हैं।

इन मांगों को लेकर होगी हड़ताल

महासंघ की अनेक मांगों में से मुख्य मांग प्रदेश के कर्मचारियों को ‘समान काम समान वेतनमान’ देना, मेडिकल कैशलेस पॉलिसी, जोखिम भत्ता, पुरानी पेंशन पॉलिसी को पुन: लागू करना, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करना, आंगनवाड़ी व आशा वर्करों की स्थाई भर्ती कर नियुक्ति की जाए, परिवहन विभाग के बेड़े में बसों की संख्या बढ़ाया जाना, जिन बोर्डों, निगमों को सातवें वेतन का लाभ नहीं मिला उन्हें जनवरी 2016 से लाभ देने, शिक्षा बोर्ड कर्मियों को सचिवालय के समान वेतनमान देने आदि शामिल हैं।

इस राज्यव्यापी हड़ताल में निगमों, ब्लॉकों, बोर्डों के साथ आबकारी व कराधान विभाग, तहसील, नगर निकाय, निगम व नगर पालिका, बिजली विभाग, जनस्वास्थ्य विभाग, हरियाणा रोडवेज, शिक्षा, बिजली, पानी, आदि कई विभाग पूर्णरूप से हड़ताल पर रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here